Ads (728x90)

अन्य कई गोदाम बिल्डर पुलिस के रडार पर।

भिवंडी। एम हुसेन । इंडियन नेवी के एक रिटायर्ड अधिकारी को गोदाम बेचने के नाम पर ठगी करने वाले बिल्डर महेश मालदे को भिवंडी तालुका पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बिल्डर की गिरफ्तारी के बाद उसे पुलिस ने भिवंडी न्यायालय में पेश किया जिसे न्यायालय ने 11 जुलाई तक  पुलिस हिरासत में रखने का आदेश दिया है। इंडियन नेवी के अधिकारी के साथ ठगी करने वाले बिल्डर मालदे की गिरफ्तारी के बाद भिवंडी में गोदाम बनाने वाले तमाम बिल्डरों में हड़कंप मचा हुआ है। उक्त प्रकार से जमीन और गोदाम देने के नाम पर ठगी करने वाले कई विवादित बिल्डर पुलिस के रडार पर हैं।
        प्राप्त जानकारी के अनुसार भिवंडी तालुका के वालशिंद क्षेत्र में गोदाम बनाने वाले कई प्रोजेक्ट के मालिक,संचालक शहर के प्रसिद्ध बिल्डर महेश रायसी मालदे  ने इंडियन नेवी के रिटायर्ड अधिकारी आनंद प्रकाश अग्रवाल को अपने जाल में फंसाया और उन्हे वालशिंद के अपने प्रोजेक्ट में 6 सौ रुपये प्रति स्क्वायर फुट  सस्ते दर पर   5 हजार स्क्वायर फुट का गोदाम अपने भूखंड पर देने का वादा किया। बिल्डर मालदे ने रिटायर्ड अधिकारी अग्रवाल से खुद की जमीन बता कर 20 लाख रुपए का चेक आरटीजीएस द्वारा लिया था। सूत्रों द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार बिल्डर मालदे ने रिटायर्ड अधिकारी अग्रवाल को गोदाम देने के लिए तरह-तरह का झांसा देने लगा। 5 वर्ष बीत जाने के बाद भी जब बिल्डर ने गोदाम नहीं दिया तो इसके बाद  अग्रवाल को बिल्डर मालदे के ऊपर शक हुआ। उन्होंने ठाणे जिला अधिकारी कार्यालय जाकर इस बात की जांच पड़ताल शुरू की कि वालशिंद गांव में महेश मालदे के नाम से कोई जमीन अगर है तो उसका एन ए प्रमोशन, टाउन प्लानिंग का नक्शा मंजूर किया है क्या? इस बाबत जानकारी करने पर अग्रवाल को पता चला कि मालदे के नाम पर वालशिंद , भिवंडी में किसी प्रकार की जमीन नहीं है और उसे किसी भी प्रकार के निर्माण कार्य की सरकारी अनुमति नहीं मिली है। इसके बाद अग्रवाल ने अपने साथ हुए धोखाधड़ी की लिखित शिकायत भिवंडी तालुका पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई ।भिवंडी तालुका पुलिस ने आनंद प्रकाश अग्रवाल की शिकायत पर महेश रायसी मालदे के विरुद्ध भादवि की धारा 419, 420, 467, 468, 471 के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है ।तालुका पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी महेश मालदे की गिरफ्तारी के बाद उसे भिवंडी न्यायालय में पेश किया ।जहां न्यायालय ने महेश मालदे को 11 जुलाई तक पुलिस हिरासत में रखने का आदेश दिया है ।सूत्रों ने बताया कि महेश मालदे ने पुलिस के समक्ष यह स्वीकार किया है कि उसने 30 लाख रुपए में अग्रवाल को गोदाम देने का वचन दिया था। जिसके एवज में रिटायर्ड अधिकारी आनंद प्रकाश अग्रवाल ने महेश मालदे को 27 अगस्त 2013 में 10 -10 लाख रुपए के दो चेक आरटीजीएस के द्वारा एडवांस में भुगतान लिया था ।पांच वर्ष बीत जाने के बाद महेश मालदे ने अग्रवाल को वेयरहाउस नहीं दिया और ना ही उनका पैसा वापस किया। सूत्रों ने यह भी बताया कि गिरफ्तार आरोपी महेश मालदे इसी प्रकार अपने साथियों के साथ मिलकर कई अन्य नामी गिरामी लोगों को अपने जाल में फंसाकर उनके साथ धोखा किया है जिसके कुछ मामले न्यायालय में विचाराधीन हैं ।

Post a comment

Blogger