Ads (728x90)

भिवंडी। एम हुसेन ।पिछले दो दिनों से हो रही लगातार मूसलाधार बरसात से बाढ़ की स्थिति बनी हुई है जिससे अभी भी भिवंडी शहर उबर नहीं पाया है। एक तरफ मनपा प्रशासन और उसका  आपात्कालीन विभाग जहां लोगों को सुरक्षित निकालने व लोगों की सहायता करने के लिए अपनी पीठ थपथपा रहा है। वहीं भिवंडी शहर के कल्याण नाका के समीप स्थित घूंघट नगर क्षेत्र में एक बंद कारखाने की दीवार गिर गई जिससे पूरा नाला बंद हो गया। जिसकारण आसपास के लगभग 50 घरों में पानी घुस गया है । लोगों को मजबूर हो कर घर छोड़कर भागना पड़ा। इस घटना की शिकायत मनपा प्रशासन तथा उसके आपात्कालीन विभाग को दी गई ।सोशल मीडिया पर फोटो डालकर लोगों ने राहत और सहायता पहुंचाने की अपील की।परंतु 24 घंटे बीत जाने के बावजूद भी अभी तक मनपा प्रशासन के  लोग घटनास्थल पर सहायता के लिए नहीं पहुंचे। मनपा प्रशासन के कुछ कर्मचारी व अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचकर केवल फोटो खींच कर चले गए। मनपा प्रशासन की निष्क्रियता को देखते हुए कुछ स्थानीय लोगों ने बरसात बंद होने के बाद मिलकर नाले में  गिरी हुई दीवार के मलबे को हटाकर पानी निकलने का रास्ता बनाया। जिसकारण आसपास के घरों से पानी निकलना शुरू हुआ। लोगों के घरों में अभी भी कीचड़ भरा हुआ है ।24 घंटे बीत जाने के बाद भी लोग अभी तक अपने घरों में वापस नहीं लौट पाए हैं । स्थानीय समाज सेवक व पत्रकार पीडी यादव का कहना है कि मनपा प्रशासन एक तरफ लोगों को राहत पहुंचाने की  डींगे हांकता है। लेकिन इस घटना को 24 घंटे बीत जाने के बावजूद घूंघट नगर में बंद कारखाने की दीवार नाले में गिरने के कारण 50 घरों में पानी भरने की घटना संदर्भ में जानकारी मिलने के बावजूद प्रशासन के लोग राहत पहुंचाने नहीं पहुंचे।पीडी यादव ने बताया कि 24 घंटे के बीच दो बार मनपा प्रशासन के कुछ कर्मचारी व अधिकारी आए और फोटो खींच कर वापस चले गए लेकिन नाले की साफ-सफाई अभी तक नहीं हुई है । यादव ने बताया कि कल्याण रोड, गोपाल नगर तथा आसपास के क्षेत्रों का पानी एसबी पेट्रोल पंप के पास से उसके पीछे के नाले से होकर बहता है और अब दीवार गिरने के बाद नाला टूट चुका है, साथ ही जिस बंद कारखाने की दीवार गिरी है उस कारखाने की जर्जर दीवार का हिस्सा अभी भी गिरने की स्थिति में है ।यदि वहां शीघ्र कार्रवाई नहीं की गई तो कोई न कोई बड़ा हादसा हो सकता है। स्थानीय नागरिकों ने मनपा प्रशासन के विरुद्ध तीव्र नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि दीवार गिरने से नाला पूरी तरह टूट गया है। जिसके लिए मनपा पूरी तरह से जिम्मेदार है। इसलिए मनपा प्रशासन को इस नाले से बहने वाले पानी की क्षमता बढ़ाने के लिए नाले का नए सिरे से निर्माण तथा टूटे हुए नाले की मरम्मत की जानी चाहिए। यह तो अभी बरसात के शुरुआती दौर का हाल है, भविष्य में यदि तेज बरसात हुई तो इस क्षेत्र में  भीषण दुर्घटना होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है जो एक गंभीर समस्या है ।

Post a comment

Blogger