Ads (728x90)

हिन्दुस्तान की आवाज सोनू उन्नाव

 भगवंतनगर। थाना बिहार के कस्बा भगवंतनगर मे बीते बुधवार की रात संदिग्ध हालत मे मौत के मामले मे परिजनो ने सुबह शव मुख्य मार्ग पर रख जाम कर दिया व पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरु कर दी। परिजनो ने हत्या का आरोप डायल 100 पर लगा जांच व मुआवजे दिए जाने की मांग कर रहे थे। कस्बा भगवंतनगर के वार्ड दस निवासी चंद्रशेखर उर्फ कल्लू ठेकेदार(55) पुत्र बसावन लकड़ी कटान का ठेका लेता था। बीते बुधवार की रात लगभग 11 बजे पुरंदरपुर गांव में लकड़ी कटान कर तीन ट्रैक्टर ट्राली मे लकड़ी लदवा कर पीछे चल पडा। बताते है कि उसका एक ट्रैक्टर भगवंतनगर स्थिति फूलमती मंदिर चौराहे पर खड़ा था और वह पीछे से आ रहा था। कुछ देर बाद डायल100 ने उसे खून से लथपथ सड़क पर पडा देख सुमेरपुर सीएचसी पहुंचाया जहां से जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। जिला अस्पताल ले जाते समय रास्ते मे ही उसकी मौत हो गयी थी। गुरुवार को पोस्टमार्टम के बाद घर शव पहुंचने पर विदेश मे रहा लड़का मुकेश के आने पर दूसरे दिन अंतिम संस्कार होना था। मगर सुबह लगभग आठ बजे परिजनों ने शव को बिहार बक्सर मार्ग पर रख कर रोड जाम कर दी  व पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरु कर दी। सूचना मिलने पर पहुंचे चौकी प्रभारी वीके तिवारी ने स्थित को नियंत्रण  करने का प्रयास किया मगर स्थिति बिगडते देख उच्चाधिकारियो को सूचित किया। बिहार एसओ मो. अशरफ  ने मामले की तहरीर देने व जांच कर दोषियो पर कार्यवाही की बात कही मगर मौजूद लोग पीआरवी को मौके पर बुलाने की मांग पर डटे रहे। क्षेत्राधिकारी बीघापुर विवेक रंजन राय, एसडीएम बीघापुर प्रभू दयाल, सीओ सदर स्वतंत्र सिंह,  नायब तहसीलदार रजनीश बाजपेयी व चार थानो की पुलिस मौके पर डटी रही। अधिकारियो के काफी समझाने के बाद मृतक की पत्नी राजकुमारी ने तहरीर दी। दी तहरीर मे बीते बुधवार की 11 बजे रात ध्यान सिंह का लड़का मुनीश मृतक का मोबाईल ले कर उनके घर पहुंचकर एक्सीडेंट की सूचना दी। सूचना पर राजकुमारी ने मृतक के साथी ज्ञान सिंह को बुलाकर घटनास्थल पर पहुंची मगर पर केवल मृतक की बाईक बिना टूट फूट के खडी थी। राजकुमारी वहां से सुमेरपुर सीएचसी पहुंची मगर वहां भी  कोई नही मिला और वह वहा से घर वापस लौट आई जहां उन्हे कल्लू की मौत की सूचना मिली। प्रार्थिनी ने आरोप लगाया कि डायल 100 से लकड़ी के लेनदेन मे कहा सुनी हुयी अगर दुर्घटना होती तो बाईक मे भी  टूट फूट होती। जबकि मृतक के गले मे खरोच के निसान व पेट और पैर मे प्रहार के निशान है। प्रर्थिनी का कहना था कि पीआरवी ने बिना घर मे सूचित किए सुमेरपुर ले गयी और वहां से भाग खडी हुयी। घटना मे पीआरवी की मिली भगत की बात कही।

Post a comment

Blogger