Ads (728x90)

भिवंडी।एम हुसेन। कोरोना वायरस के बढते संक्रमण को रोकने के लिए मजदूरों को स्थलांतर व मरीजों की  सहायता  करने में शासकीय यंत्रणा जलदबाजी कर रहे हैं । `लॉकडाउन' का  लाभ उठाते हुए  करोड़ों रुपये की लागत से  भिवंडी-कल्याण-शील रास्ते पर स्थित  रांजनीली-कल्याण के दरम्यान  कांक्रीट रास्ते का काम अत्यंत निकृष्ट दर्जे का किया  जा रहा है। नये रास्ते अनेक  स्थानों पर  अलग थलग पड़े हुए हैं।इस संदर्भ में  भाजपा  सांसद कपिल पाटील  ने  एमएसआरडीसी के  व्यवस्थापकीय संचालक राधेश्याम मोपलवार के निकृष्ट काम पर  ध्यान केंद्रित किया है।
भिवंडी-कल्याण-शील रास्ते पर  छोटे  बड़े  व हलके वाहनों की बड़े पैमाने पर  यातायात जारी है।21 किलोमीटर  का यह रास्ता  निजीकरण  से  निर्माण  किया  जा रहा है। भविष्य में इस रास्ते  पर टोल आकारणी की जाने वाली है।अभी इस मार्ग पर बरसात के  खड्डों  से  यातायात बाधित की समस्या बनी  रहती है। इस क्षेत्र में कांक्रीट रास्ते के कारण  नागरिकों को खड्डों से  मुक्ति  मिलने वाली थी । परंतु  इस क्षेत्र में  लॉकडाउन का  लाभ उठाते हुए   कंट्रेकटर द्वारा  निकृष्ट काम किया  जा रहा है।   नये निर्माण किये गया  अनेक कांक्रीट रास्ता अलग-थलग पडा हुआ है।जिसकारण यह  रास्ता भविष्य में टिकने वाला नहीं है ,इस प्रकार की  प्रतिक्रिया व्यक्त  की  जा रही है।
उक्त संदर्भ में  भाजपा के सांसद  कपिल पाटील ने एमएसआरडीसी के  व्यवस्थापकीय संचालक राधेश्याम मोपलवार  को पत्र प्रेषित किया है।इसी प्रकार  कांक्रीट रास्ते  का काम गुणवत्तापूर्ण करने की भी मांग की है । `लॉकडाउन' के कारण यातायात बाधित की समस्या  नहीं होने के कारण  उत्कृष्ट दर्जे का  काम किये जाने की  नागरिकों को अपेक्षा  थी ,परंतु  आगामी माह में बरसात  शुरू होने वाली  है  परंतु  अत्यंत निकृष्ट दर्जे  का काम हो रहा है  इस प्रकार की प्रतिक्रिया  सांसद  कपिल पाटील  ने पत्र में व्यक्त किया है। `लॉकडाउन' के कारण  एमएसआरडीसी  की यंत्रणा द्वारा निरीक्षण नहीं किया जा रहा है  जिसकारण  गुणवत्तापूर्ण काम की अपेक्षा  केवल जुबानी काम  किया जा रहा है इस प्रकार की चर्चा नागरिकों  द्वारा की जा रही है।


Post a comment

Blogger