Ads (728x90)

    *     उपराष्ट्रपति के हाथों और मुख्यमंत्री की उपस्थिति में होगा उद्घाटन

     *     40 देश के लगभग 1 हजार प्रतिनिधियों की उपस्थिति

     *     केंद्र सरकार, राज्य सरकार और सीआयआय के संयुक्त तत्वावधान में 25 वी वैश्विक परिषद

     *     मुंबई को मिला पहली बार आयोजक का सम्मान

     *     केंद्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभू और राज्य के उद्योगमंत्री सुभाष देसाई इन्होंने दी जानकारी

 आनेवाले 12 और 13 जनवरी 2019 के दिन मुंबई में जे डब्ल्यू मेरियेट होटल में विश्व के लगभग 40 देश के उद्योजक एकसाथ आनेवाले हैं। केंद्र सरकार, राज्य सरकार और कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआयआय ) के संयुक्त तत्वावधान में 25 वी वैश्विक भागीदारी परिषद आयोजित की गई है। मुंबई को प्रथमतः ही आयोजक होने का सम्मान मिला है। इस परिषद का उद्घाटन उपराष्ट्रपति व्यंकय्या नायडू के हाथों और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की उपस्थिति में होनेवाला है, यह जानकारी केंद्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभू और उद्योगमंत्री सुभाष देसाई इन्होंने पत्रकार परिषद में दी।

     इस अवसर श्री. देसाई इन्होंने कहा कि, इस वैश्विक परिषद का आयोजक होने का सम्मान राज्य को मिला है यह आनंद की बात है। इससे पहले हुए 'मेक इन इंडिया' और 'मॅग्नेटीक महाराष्ट्र' परिषद को भी अच्छा प्रतिसाद मिला था। इस परिषद में हुए समझौता करार के कारण राज्य में उद्योगों को बढ़ावा मिला है। आनेवाली परिषद के लिए भी राज्य तैयार है और यह परिषद भी सभी के सहयोग से सफल होगी, यह विश्वास उन्होंने व्यक्त किया है।

     श्री. प्रभू इन्होंने कहा कि, महाराष्ट्र में निवेश करने के लिए बहुत ही बढ़िया और अनुकूल वातावरण है। देश ने आनेवाले कुछ वर्षों में 100 अरब डॉलर्स का परकीय निवेश लाने का उद्देश्य निश्चित किया है। इसके लिए सूक्ष्म नियोजन किया गया है। 'इज ऑफ डुईंग’ बिजनेस के लिए देश या राज्य घटक न मानते हुए जिले को घटक मानकर नियोजन किया जा रहा है। जिले का विकास करके ही राज्य और देश का विकास होनेवाला है। देश की अर्थव्यवस्था ट्रिलीयन डॉलर की ओर अग्रसर हो रही है। इसके लिए उत्पाद, सेवा, कृषी, पर्यटन और निर्यात इसके जैसे क्षेत्रों को बढ़ावा देने के लिए नियोजन किया जा रहा है। इन सभी प्रयासों की चर्चा और प्रदर्शन इस वैश्विक भागीदारी परिषद में होनेवाला है, यह भी उन्होंने बताया।

     सीआयआय के महासंचालक चंद्रजीत बॅनर्जी इन्होंने इस परिषद की रूपरेखा और पृष्ठभूमि को स्पष्ट किया।

Post a comment

Blogger