Ads (728x90)

सम्भल के थाना रजपुरा का मामला सरकारी अस्पताल के सामने चल रहा अवैध ओम शांति नर्सिंग होम जिस की लापरवाही से दो शिशुओं की मौत हो गई में झोलाछाप डॉक्टर की वजह से दो शिशुओं की मौत हो गई ऐसा ही एक मामला रजपुरा थाना क्षेत्र के गांव जिजौंडा डांडा व गुरैठा का सामने आया है जिसमें दोनों गांव की महिला प्रसव पीड़ा के दौरान रजपुरा के सरकारी अस्पताल में भर्ती किया गया था लेकिन नॉर्मल डिलीवरी होने पर भी सरकारी अस्पताल की महिला डॉक्टर ने झोलाछाप के यहां रेफर कर दिया जिस में झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही से दोनों शिशुओं की मौके पर ही मौत हो गई इसकी शिकायत मुख्य चिकित्सा अधिकारी से की सूचना मिलने पर क्वैक्स के नोडल अधिकारी पवन कुमार सिंह व गुन्नौर के उपजिलाधिकारी ओमवीर सिंह व रजपुरा के प्रभारी निरीक्षक  प्रवीन सोलंकी मौके पर पहुंचे जांच कर नर्सिंग होम को सील कर संगीन धाराओं में  मुकदमा दर्ज  कर दिया है उधर पीड़ित परिवार ने सरकारी अस्पताल में तैनात महिला डॉक्टर पर आरोप लगाया है कि सरकारी अस्पताल में नॉर्मल डिलीवरी होने के बाद भी सरकारी अस्पताल में डिलीवरी नहीं हो पाती और उसी डिलीवरी को झोलाछाप के यहां रेफर कर गरीब की आठ हजार रुपये से जेब कटवा देते हैं लेकिन प्रशासनिक अधिकारी इस बात पर गौर नहीं देते की सरकारी अस्पताल में क्या धंधा चल रहा है देखते प्रशासन की तरह से  कया कार्यवही होती है

Post a comment

Blogger