Ads (728x90)


संवाददाता, भिवंडी । भिवंडी निजामपूर शहर महानगरपालिका  में 4500 अधिकारी व कर्मचारी कार्यरत हैं, राज्य की सभी महानगरपालिका प्रशासन ने अधिकारी व कर्मचारियों को दीपावली के अवसर पर सानुग्रह अनुदान देने की घोषणा की है परंतु भिवंडी मनपा के लोक प्रतिनिधियों द्वारा अधिकारी व कर्मचारियों को सानुग्रह अनुदान देने से टालमटोल कर रहे हैं। मनपा द्वारा काफी विचार विमर्श करने के बाद सानुग्रह अनुदान देने के लिए आर्थिक परिस्थिती खराब होने का बहाना बनाकर 7100 रुपये देने की घोषणा गत 30.10.018 को की गई है जो अन्य महानगरपालिका के की अपेक्षा बहुत कम है। इस प्रकार की घोषणा करते हुए केवल  कर्मचारियों का अपमान किया गया है। ज्ञात हो कि पूर्व वर्ष सन 2016 में 9500 रुपये की घोषणा करने के बावजूद केवल 5000 रुपये ही भुगतान किया गया इसी प्रकार पूर्व वर्ष भी 6100 रुपये घोषित करके कर्मचारियों की दीपावली अंधेरे में डाल दिया है, जो एक प्रकार की लोक प्रतिनिधी व मनपा प्रशासन की मिलीभगत है। जिसकारण कर्मचारियों में भारी असंतोष है। इसलिए आर्थिक परिस्थिती खराब होने का बहाना बनाकर कर्मचारियों के साथ अन्याय करने वाली मनपा के लोक प्रतिनिधी व प्रशासन का निषेध करने के लिए एवं इनकी आर्थिक परिस्थिती में सुधार लाने के लिए शहर के जागरूक, दयालु सुद्द नागरिकों के पास से भीख मांग कर जमा किया गया 764/ रूपया लोक प्रतिनिधियों को देने के लिए संघटना द्वारा 5.11.018 को सुबह 11 बजे से भीख मांगों आंदोलन किया गया। उक्त भीख मांगों आंदोलन मनपा मुख्यालय से शुरू होकर डॉ भीमराव अम्बेडकर नगर स्थित बाबासाहेब आंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर यहां से भिवंडी बस स्थानक तक तथा बस स्थानक से होते हुए प्रांत कार्यालय स्थित आंदोलन समाप्त कर  भीख मांग कर जमा  रकम 764/ रूपया मनपा महापौर व स्थायी समिति सभापति को देने के लिए भिवंडी प्रांताधिकारी डॉ मोहन नलदकर से भेंटवार्ता कर उनके हवाले किया गया ।उक्त भीख मांगों आंदोलन में लेबर फ्रंट के अध्यक्ष एडवोकेट किरण चन्ने, महासचिव संतोष जा चव्हाण, सूरज गायकवाड, तुषार शेलार, अभिजीत सपकाल, निलेश जाधव, रवींद्र गायकवाड, सुविधा चव्हाण,शोभना मेढेकर, सुनील निकम,लक्ष्मण गायकवाड, शाम गायकवाड, दशरथ चन्ने,श्रीकांत भोईर, अमोल तपासे,विघ्नेस मसुना, धीरज राठोड, योगेश परमार आदि सैकड़ों कार्यकर्ता शामिल थे ।

Post a comment

Blogger