Ads (728x90)

•        उद्भव स्कूल की दलित बालिकाओं की शिक्षा के लिए धन / फंड एकत्र करने को लेकर आरबीएल बैंक की एक पहल

•         कुल 10 दिनों की मुंबई से बेंगलरू की इस साइकिल यात्रा में 30 साइकिल धावक तय करेंगे 1000 किलोमीटर दूरी

मुम्बई 30 नवंबर :I दलित और गरीब स्कूली छात्राओं को आर्थिक मदद उपलब्ध कराने के लिए आर बी एल बैंक ने आज यहाँ "उम्मीद 1000 " सैक्लोथान (साइकिल दौड़ ) के पांचवें सत्र की शुरुआत के लिए हरी झंडी दिखाई। 30 साइकिल धावकों की यह टीम गरीब स्कूली छात्राओं के लिए मुंबई से बेंगलुरू तक दौड़ेगी और जागरूकता फ़ैलाने के साथ ही उनके लिए धन भी एकत्र करेगी। इस सैक्लोथान को प्रारम्भ करने की झंडी आई आई एम इंदौर के प्रोफेसर श्रीनाथ जगन्नाथन ने दिखाई , यह साइकिल दौड़ 10 दिसंबर को चेन्नई में समाप्त होगी।

मुंबई से बेंगलूरू तक कि यह यात्रा पुणे , सतारा , कोल्हापुर , बेलागावी , हुबली , रनबेन्नूरु , चित्रदुर्ग और टुमकुर होते हुए समाप्त होगी।  इस यात्रा की पहल जसमीत .एस .गांधी जो खुद एक अच्छे साइकिलिस्ट और छात्राओं की शिक्षा के लिए काफी जागरूक हैं ने 30 आर बी एल कर्मचारियों के साथ मिलकर की है। इस साइकिल दौड़ यात्रा में धावकों के साथ कर्नाटक पुलिस की 50 महिला सुरक्षाकर्मी रहेंगी जो जागरूकता फ़ैलाने के साथ ही आर्थिक मदद का भी प्रयास करेंगी। कर्नाटक और महाराष्ट्र राज्यों की पुलिस पूरे दस (10 ) दिनों तक सक्रियतापूर्वक उम्मीद 1000 सैक्लोथान साइकिल धावकों की मदद के लिए उपलब्ध रहेगी। 

इस यात्रा पर बोलते हुए आर बी एल बैंक की एच आर , इंटरनल ब्रांडिंग  और सी एस आर हेड शांता वल्लुरी गाँधी ने कहा " एक संसथान के रूप में हम दृढ़तापूर्वक यह विश्वास करते हैं की समाज के उत्थान के लिए और उसका ऋण उतारने के लिए हम सदैव उपलब्ध हैं। हमारे बैंक में सी एस आर अनिवार्य ही नहीं बल्कि जीवन की एक शैली है। हम अपने सहयोगियों के साथ मिलकर तमाम लोगों के जीवन में एक सकारात्मक असर छोड़ना चाहते हैं। उम्मीद 1000 सैक्लोथान इस बात को पूरी तरह रेखांकित करता है कि हम समाज के उत्थान के लिए किस प्रकार से संकल्पबद्ध हैं। " 

इस अवसर पर बोलते हुए उद्भव स्कूल (लाभार्थी ) के प्रतिनिधि एच. सीताराम , जो आईआईएम् अहमदाबाद अल्मुनि एसोसिएशन हैदराबाद चैप्टर का एक चैरिटबल ट्रस्ट है ने कहा , " आईआईएम अहमदाबाद के पूर्व छात्र ये मानते हैं कि हर विद्यार्थी को उसी प्रकार की शिक्षा मिलनी चाहिए जैसे उनको बचपन में प्राप्त हुई थी। मुझे इस बात की बेहद ख़ुशी है की आर बी एल बैंक ने आई आई एम ए ए ए को एक सहभागी और उद्भव स्कूल को का चुनाव लाभार्थी के रूप में किया। "

इस बार आर बी एल बैंक ने आई आई एम् हैदराबाद चैप्टर चैरिटेबल ट्रस्ट ने फतेहनगर के निर्माण में सहयोग देने का फैसला किया है यह विद्यालय भी शहर के एक भाग में आता है जहां झोपड़पट्टी के गरीब बच्चे पढ़ सकेंगे। ऐसा पहली बार हो रहा है जब आईआईऍम अल्मुनि के तीनों अंग आरबीएल बैंक के साथ साझेदारी करने जा रहे हैं।

अभी तक आरबीएल बैंक के उम्मीद 1000 सैक्लोथान के लिए कई एनजीओ जैसे - इच्छा फाउंडेशन , इम्पैक्ट और उद्भव स्कूल के लिए चार करोड़ रूपये  से अधिक राशि की आर्थिक सहायता की है।



Post a comment

Blogger