Ads (728x90)

-पांच वर्ष बीत जाने के बाद भी विद्यालय मंे नहीं लग पाया हैंडपंप 
-बाउंड्रीवाल न होने से चारागाह बना हुआ है विद्यालय परिसर

मीरजापुर,हिन्दुस्तान की आवाज, संतोष देव गिरी

मीरजापुर। जिले के सुदूर अंचल में स्थित जमालपुर विकास खंड़ क्षेत्र के करजी ग्राम पंचायत के मौजा लौंदा पर स्थित प्राथमिक विद्यालय पर आवष्यक सुविधाओं का अभाव बना हुआ है। असुविधाओं का अभाव इस कदर बना हुआ है कि विद्यालय के बच्चों को अपनी प्यास तक बुझाने के लिए सोचना पड़ता है। जबकि इस ओर संबंधित लोगों का कई बार ध्यान दिलाया जा चुका है। ऐसे में सोचना पड़ता है आखिरकार ऐसे में कैसे सब पढ़े, सब बढ़े का सपना साकार होगा जब स्कूल के बच्चों को पानी के लिए भटकना पड़ेगा। बताते चले कि इस प्राथमिक विद्यालय का निर्माण 2013 में कराया गया था। विद्यालय निर्माण के पांच वर्ष बीत जाने के बाद भी विद्यालय पर आवश्यक सुविधाएं नदारद है। प्राथमिक विद्यालय का बांउड्रीवाल नहीं है परिसर में अभी तक सरकारी इंडिया मार्का हैंडपंप का न लग पाना शिक्षा विभाग का पोल खोलने के लिए काफी है। विद्यालय में कक्षा एक से लेकर पांच तक की कक्षा मंे कुल 63 छात्र नामांकित है। विद्यालय में एक सहायक अध्यापक और एक शिक्षा मित्र की तैनाती की गई है। विद्यालय परिसर में सरकारी हैंडपंप न होने से छात्रों को अपनी प्यास बुझाने के लिए इधर-उधर भटकना पडता है।         मिड डे मील का भोजन पकाने के लिए रसोइयों को भी पानी का इंतजाम करने मंे भारी फजीहत झेलनी पड़ती है। बाउड्रीवाल खुला रहने से स्कूल भी असुरक्षित रहता है। पांच वर्ष बीत जाने के बाद भी प्राथमिक विद्यालय का बांउड्रीवाल न होना व पेयजल के लिए हैंडपंप का न होना शिक्षा विभाग की निष्क्रियता को उजागर करने के लिए काफी है। पढ़ाई के समय यहां आने वाले नौनिहालों का पूरा समय पानी का इंतजाम करने में ही गुजर जाता है। तो वह पढ़ाई कितने समय और कैसे करेगें यह एक यक्ष प्रष्न बना हुआ है।


Post a comment

Blogger